Telangana history in hindi

Telangana history in hindi – तेलंगाना राज्य का इतिहास और जानकारी

Sharing is caring!

Telangana history in hindi

भारत में आज के समय में 29 राज्य( state) और 7 केंद्रशासित ( Union Territory ) प्रदेश है। वैसे तो राज्यों की सीमा आजादी के बाद साल 1953 में निर्धारित करने के लिए राज्य पुनर्गठन आयोग बनाए गए थे। जिन्होनें देश के सभी राज्यों की सीमा तय कर दी थी। लेकिन समय – समय पर कई नए राज्यों को बनाया गया। जिसकी वजह संस्कृतिक विवधता, भाषा जैसी वजहें थी।

जिस कारण उत्तराखंड जो पहले उत्तर प्रदेश( utter pradesh ) का हिस्सा था वो यूपी से अलग होकर एक नया राज्य बना। वही पंजाब से हरियाणा को अलग किया गया इसके अलावा झारखंड भी कभी बिहार ( Bihar) का हिस्सा हुआ करता था। हालांकि हर नए राज्य बने के पीछे एक बड़ी वजह थी। और इसी कड़ी में भारत का 29वां राज्य ( state ) है तेंलगाना। पहले यह Telangana – तेलंगाना राज्य आंध्र प्रदेश का हिस्सा था। जिसे साल 2 जून 2014 को भारत का 29वां राज्य घोषित किया गया था।

हालांकि तेलंगाना को एक अलग राज्य बनाने के लिए लोगों को काफी लंबा सफर तय करना पड़ा था। ऐसा इसलिए क्योंकि ज्यादातर लोगों को लगता है कि तेलंगाना को बनाने की मांग साल 2009 में चंद्रशेखर राव के अनशन के बाद उठी थी। लेकिन ऐसा नहीं है तेलंगाना की मांग आजादी के पहले ही उठ रही है लेकिन उस समय ये आवाज शायद देश में चल रही दूसरी गतिविधियों में दब गई थी। इस राज्य के निर्माण का सफ़र कैसा रहा इसकी पूरी जानकारी निचे दी गयी है।

Read more :- भारत का सबसे बड़ा राज्य | Uttar pradesh history in hindi

तेलंगाना राज्य का इतिहास – Telangana History information in Hindi

पहले Telangana का प्रदेश आंध्र प्रदेश का ही हिस्सा था। भारत को आजादी मिलने से पहले Telangana हैदराबाद ( Hyderabad ) का हिस्सा था और इसपर निजाम का शासन था। उस समय इसमें वारंगल और मेदकवास भी शामिल था लेकिन सन 1948 में इसे भारत में शामिल किया गया था।

Telangana को राज्य बनाने के लिए सन 1969 के समय से शुरुवात की गयी थी। जैसे साल बीतते गए उसके साथ ही Telanganaको राज्य बनाने की मांग जोर पकडती रही। तेलंगाना को राज्य बनाने के लिए 1969, 1972 और 2009 मे भी बड़े बड़े आन्दोलन किये गए। इस तरह से आन्दोलन करने की वजह से ही तेलंगाना को राज्य बनाने में सहायता मिली।

Telangana को राज्य बनाने की घोषणा भारत सरकार ने 9 दिसंबर 2009 को अधिकारिक रूप से की थी। लेकिन इसके विरोध में रायलसीमा के कुछ आमदार और खासदार ने अपने पदो से इस्तीफा दे दिया था।

Read more :- History of bihar in hindi | बिहार का इतिहास

सरकार की इस घोषणा को सुनने के बाद Telangana के प्रदेश में भी कई जगहों पर हिंसा हुई। लेकिन इस बढती हुई हिंसा को ध्यान में रखते हुए दिसंबर 2009 में भारत सरकार ने इस मुद्दे को आगे बढ़ाने की कोशिश नहीं की और उसे वही पर रहने दिया। मगर Telangana राज्य को लेकर Telangana के अन्य प्रदेशो में आन्दोलन लगातार चलते रहे जो रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे।

लेकिन जब 30 जुलाई 2013 को कांग्रेस सरकार ने तेलंगाना राज्य बनाने की घोषणा की तो यह आन्दोलन और भी उग्र होता गया। इस तरह की घोषणा करने के बाद अगले दास सालों तक हैदराबाद को Telangana और आंध्र प्रदेश की राजधानी बनाने का फैसला किया गया। सरकार के इस फैसले को केंद्रीय मंत्रिमडल ने 3 अक्तूबर 2013 को मंजूरी दे दी।

Telangana राज्य विधेयक को भारत सरकार की 5 दिसंबर 2013 को मंजूरी मिलने के बाद उस विधेयक को पास करने के लिए संसद में रखा गया। 18 फरवरी 2014 को 15 वी लोक सभा ने इस विधेयक को मंजूरी दे दी और राज्य सभा ने भी 20 फरवरी 2014 को इस विधेयक को हरी झंडी दे दी।

भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी 1 मार्च 2014 कोTelangana राज्य को लेकर मंजूरी दे दी थी और इस फैसले को लेकर उसी दिन राजपत्र अधिसूचना भी निकाली गयी। 4 मार्च 2014 को भारत सरकार ने घोषित किया था की Telangana राज्य ( state ) की निर्मिती की जाएगी और 2 जून 2014 को Telangana राज्य का निर्माण किया गया।

Read more :- Rajasthan History In Hindi | राजस्थान का इतिहास

Telangana state language

Telangana की आधिकारिक भाषा तेलुगु है लेकिन कुछ लोगो का कहना है की आंध्र प्रदेश में जो तेलुगु ( Telugu ) भाषा बोली जाती है वो तेलंगाना तेलुगु से बिलकुल अलग है। संस्कृत, उर्दू, और इंग्लिश भाषा के भी कुछ शब्द तेलुगु भाषा में बोले जाते है।

1948 से पहले हैदराबाद ( Hyderabad )की अधिकारिक भाषा उर्दू ही थी मगर जब हैदराबाद को भारत में शामिल कर लिया गया था तब इस राज्य की आधिकारिक भाषा तेलुगु को बनाया गया था। यहाँ के सभी स्कूल और कॉलेज में तेलुगु माध्यम में भी पढाया जाता है।

Culture of Telangana State

Telangana की संस्कृति में फारसी, मोगल, कुतुबशाही और निजाम की परंपरा का मिश्रण देखने को मिलता है। मगर यहापर सबसे अधिक दक्षिण भारत की संस्कृति का ही प्रभाव देखने को मिलता है। इस राज्यों की संकृति काफी समृद्धी से भरी हुई है। यहापर कई तरह के शास्त्रीय संगीत( Singing ), पेंटिंग ( painting ), बुर्रा कथा लोकनृत्य( flock dance ), कठपुतली का शो, पेरिणी शिवतांडवम, गुसदी नृत्य और कोलातम देखने को मिलते है।

Read more :- List of Chief Ministers of Indian State

Telangana को आंध्र प्रदेश से अलग करके बनाया गया है इसलिए यह राज्य अन्य राज्यों की तुलना में काफी छोटा है। शुरुवात में जब इस राज्य की निर्मिती की गयी तब इस राज्य में बहुत ही कम जिले थे। मगर बाद में इस राज्य में नए जिले निर्माण किये गए।

जब नए जिले बनाये गए तो कुल 21 नए जिले बनाये गए। अब इस राज्य में कुल 31 जिले स्थित है। इस राज्य की संस्कृति बहुत सारी परमपरा का मिश्रण है। इसमें फारसी, निजाम, मोगल और दक्षिण भारत की संस्कृति का प्रभाव देखने को मिलता है।

-: Telangana history in hindi

Follow me on Instagram :- Yash Patel

Follow me on Quora :- Yash Patel

languages of Telangana ?

Telangana की आधिकारिक भाषा तेलुगु है लेकिन कुछ लोगो का कहना है की आंध्र प्रदेश में जो तेलुगु ( Telugu ) भाषा बोली जाती है वो तेलंगाना तेलुगु से बिलकुल अलग है। संस्कृत, उर्दू, और इंग्लिश भाषा के भी कुछ शब्द तेलुगु भाषा में बोले जाते है

Culture of Telangana State ?

Telangana की संस्कृति में फारसी, मोगल, कुतुबशाही और निजाम की परंपरा का मिश्रण देखने को मिलता है। मगर यहापर सबसे अधिक दक्षिण भारत की संस्कृति का ही प्रभाव देखने को मिलता है। इस राज्यों की संकृति काफी समृद्धी से भरी हुई है। यहापर कई तरह के शास्त्रीय संगीत( Singing ), पेंटिंग ( painting ), बुर्रा कथा लोकनृत्य( flock dance ), कठपुतली का शो, पेरिणी शिवतांडवम, गुसदी नृत्य और कोलातम देखने को मिलते है।

तेलंगाना राज्य का इतिहास ?

पहले Telangana का प्रदेश आंध्र प्रदेश का ही हिस्सा था। भारत को आजादी मिलने से पहले Telangana हैदराबाद ( Hyderabad ) का हिस्सा था और इसपर निजाम का शासन था। उस समय इसमें वारंगल और मेदकवास भी शामिल था लेकिन सन 1948 में इसे भारत में शामिल किया गया था।
Telangana को राज्य बनाने के लिए सन 1969 के समय से शुरुवात की गयी थी। जैसे साल बीतते गए उसके साथ ही Telanganaको राज्य बनाने की मांग जोर पकडती रही। तेलंगाना को राज्य बनाने के लिए 1969, 1972 और 2009 मे भी बड़े बड़े आन्दोलन किये गए। इस तरह से आन्दोलन करने की वजह से ही तेलंगाना को राज्य बनाने में सहायता मिली।

History of Telangana?

पहले Telangana का प्रदेश आंध्र प्रदेश का ही हिस्सा था। भारत को आजादी मिलने से पहले Telangana हैदराबाद ( Hyderabad ) का हिस्सा था और इसपर निजाम का शासन था। उस समय इसमें वारंगल और मेदकवास भी शामिल था लेकिन सन 1948 में इसे भारत में शामिल किया गया था।
Telangana को राज्य बनाने के लिए सन 1969 के समय से शुरुवात की गयी थी। जैसे साल बीतते गए उसके साथ ही Telanganaको राज्य बनाने की मांग जोर पकडती रही। तेलंगाना को राज्य बनाने के लिए 1969, 1972 और 2009 मे भी बड़े बड़े आन्दोलन किये गए। इस तरह से आन्दोलन करने की वजह से ही तेलंगाना को राज्य बनाने में सहायता मिली।

About Telangana in hindi

भारत में आज के समय में 29 राज्य( state) और 7 केंद्रशासित ( Union Territory ) प्रदेश है। वैसे तो राज्यों की सीमा आजादी के बाद साल 1953 में निर्धारित करने के लिए राज्य पुनर्गठन आयोग बनाए गए थे। जिन्होनें देश के सभी राज्यों की सीमा तय कर दी थी। लेकिन समय – समय पर कई नए राज्यों को बनाया गया। जिसकी वजह संस्कृतिक विवधता, भाषा जैसी वजहें थी।

Telangana state in hindi

भारत में आज के समय में 29 राज्य( state) और 7 केंद्रशासित ( Union Territory ) प्रदेश है। वैसे तो राज्यों की सीमा आजादी के बाद साल 1953 में निर्धारित करने के लिए राज्य पुनर्गठन आयोग बनाए गए थे। जिन्होनें देश के सभी राज्यों की सीमा तय कर दी थी। लेकिन समय – समय पर कई नए राज्यों को बनाया गया। जिसकी वजह संस्कृतिक विवधता, भाषा जैसी वजहें थी।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
shares
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x