ऊपर वाले के घर देर है अंधेर नहीं | real life inspirational short story in hindi

Real life inspirational short story in hindi

Sharing is caring!

Real life inspirational short story in hindi

एक बार कैंसर के एक बहुत मशहूर Doctor डॉ. मजीद को नयी दिल्ली एक अवार्ड सेरेमनी में Life time अचीवमेंट अवार्ड देने के लिए बुलाया जाता है।

इस आवर्ड को लेकर डॉ. मजीद ही नहीं पूरा लखनऊ शहर बहुत उत्साहित था क्योंकि डॉ. साहब न सिर्फ एक काबिल doctor थे बल्कि एक बहुत नेक दिल इंसान भी थे।

अवार्ड सेरेमनी वाले दिन वो सुबह फ्लाइट पकड़ने के लिए एअरपोर्ट पहुँचते हैं. पर कुछ Technical खराबी आ जाने के कारण वो फ्लाइट कैंसिल हो जाती है.. और दुर्भ्ग्यवाश कोई दुशरी फ्लाइट भी मौजूद नहीं होती है।

डॉ. मजीद सोचते हैं चलो कोई बात नहीं ceremony तो शाम को है… और लखनऊ से दिल्ली 6-7 घंटे का ही रास्ता है तो चलो taxi से निकल लेते हैं।  ( short story in hindi )

वे जल्द ही एक टैक्सी हायर करके Delhi की तरफ बढ़ने लगते हैं…आधे रास्ते तक तो सब ठीक रहता है लेकिन अचानक ही driver कहता — “साहब! सामने देखिये… बहुत बड़ा जाम लगा हुआ है… अगर हम इस रास्ते से जाते हैं तो पहुँचने में रात लगा जायेगी! अगर आप कहें तो कोई दूसरा रास्ता try करूँ…”

डॉ मजीद पहले तो ड्राईवर को मना कर देते हैं पर जब 10-15 मिनट बाद भी cars टस से मस नहीं होती हैं तो वे driver से दूसरा रास्ता try करने को कहते हैं।

Read more :- संघर्ष ही आपको मज़बूत बनायेगा-short story in hindi

driver अपने अंदाजे पर गाड़ी सर्विस लेन पर ले लेता है और जो पहले कट मिलता है उससे बायीं तरफ मुड़ जाता है. उबड़-खाबड़ रास्तों पर। घंटे भर चलने के बाद भी कोई पक्की सड़क या रास्ता नहीं दिखाई देता।  ( short stories in hindi )

डॉ. मजीद बिलकुल मायूस हो जाते हैं तभी उनको दूर एक झोपड़ी दिखाई देती है।

वो देखिये ड्राईवर साहब उधर एक झोपड़ी है, चलिए वहीं चल कर पता पूछते हैं। 

Driver तुरंत गाड़ी रोकता है और वे दोनों उतर कर उस झोपड़ी के पास पहुँचते हैं।

“अरे कोई है!”, driver जोर से पुकारता है।

झोपड़ी से एक बूढी सी औरत बाहर निकलती है।

“क्या बात है बेटा, क्यों पुकार रहे हो?”

“माता जी हम लोगों को Delhi  जाना है पर हम रास्ता भटक कर इधर आ गए हैं क्या आप हमारी मदद कर सकती हैं?”, Driver वृद्धा से निवेदन करता है। ( Best short story in hindi )

Read more :- इंसान की असली कीमत | motivational story in hindi for success

बिलकुल मदद करुँगी बेटा पहले आप लोग अन्दर आकर पानी तो पी लो।

वह उन दोनों के लिए पानी और कुछ गुड़ लेकर आती है।

डॉ. मजीद उस गरीब की आवभगत से खुश हो जाते हैं और पूछते हैं – “आप यहाँ अकेली रहती हैं क्या?”

नहीं-नहीं, मेरा पोता भी मेरे साथ रहता है. बिचारे के माता-पिता बचपन में ही मर गए थे तबसे मैं ही इसका ख़याल रखती हूँ… देखिये न बेचारा बिस्तर में बीमार पड़ा है…शायद ये भी अब कुछ दिनों बाद मुझे छोड़ कर चला जाएगा…

और इतना कहते-कहते उनकी आँखों से आंसूं निकलने लगे।  ( Best short story in hindi )

डॉ. मजीद आगे बढ़ते हैं और वृद्धा को ढांढस बंधाते हुए कहते हैं, कुछ नहीं होगा इसे बताइये क्या हुआ है इस नन्हे बालक को.

इस अभागे को कैंसर है साहब…लोग कहते हैं इसका इलाज सिर्फ लखनऊ के डॉ. मजीद के पास है… बहुत कोशिश की, कई बार चक्कर लगाए पर डॉ. साहब से मुलाक़ात नहीं हो पायी…अब तो सब कुछ भगवान पर छोड़ दिया है…अगर मैंने सच्चे मन से उसे माना होगा तो एक दिन वो मेरी मदद ज़रूर करेगा। 

इतना सुनते ही डॉ. मजीद का गला रुंध गया…आँखों में नमी आ गयी…वे पूरे दिन के घटनाक्रम को सोचने लगे कि कैसे बुढ़िया का यकीन हकीकत बन गया…कैसे उस ऊपर वाले ने अपने बंदे के उन्हें यहाँ भेजा!

Read more :- किसी के बिना किसी का काम नहीं रुकता | motivational story in hindi for success

गहरी सांस लेते हुए वे बोले, “मैं ही हूँ डॉ. मजीद आपके भगवान ने ही मुझे यहाँ भेजा है।  चलिए मेरे साथ हम आज से ही इस बालक का इलाज शुरू करेंगे!”

Dosto, कहते हैं ऊपर वाले के घर देर है अंधेर नहीं।  यदि आप सच्चे दिल से किसी चीज को  चाह ते हो और उसके लिए हर संभव प्रयास करते हैं तो एक न एक दिन वो आपको मिल ती जरूर है। ( Best short story in hindi )

Read more :- पत्थर जमा करते करते हिरा खोदिया | Best motivational short story in hindi

इसलिए उस बूढी औरत की तरह दृढ विश्वास के साथ जो कुछ भी आप पाना चाहते हैं उसके लिए कर्म करिए…लेकिन फल कब कैसे कहाँ मिलेगा वो भगवान् पर छोड़ दीजिये।

-: Real life inspirational short story in hindi

Follow on Quora :-Yash Patel

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares