Morari Bapu biogeraphy in hindi

Morari Bapu Biography in hindi | मोरारजी बापू

Sharing is caring!

Morari Bapu Biography in hindi :-

मोरारजी बापू का पूरा नाम मोरारीदास प्रभुदास हरियानी है। उन्हें प्यार से सभी बापू कह के बुलाते है। उनका जन्म 25 सितम्बर 1946 को अश्विन कृष्ण अमावस्या के दिन तलागाजर्दा गाव महुआ (गुजरात) में हुआ। उनके पिता का नाम प्रभुदास हरयानी और माँ का नाम सावित्री बेन हरियानी है। उनका जन्म वैष्णव बावा साधू निम्बरका संप्रदाय के परिवार में हुआ।

उनके परदादा ऋषिकेश के कैलाश आश्रम के मुख्य थे। उन्हें भगवद्गीता और वेदों का ज्ञान था। उनके दादाजी प्रभु श्री राम के बड़े भक्त थे। जब बापू स्कूल से घर पे वापस आते थे तो उनके दादाजी त्रिभुवनदास उनसे रामचरितमानस के पाच श्लोक रोज करवा लेते थे।

डिग्री की पढाई पूरी करने के बाद बापू ने जूनागढ़ के शाहपुर कॉलेज में शिक्षक की पढाई का अध्ययन किया। बाद में वो जे। पारेख स्कूल में सभी विषय पढ़ाते थे जिनमे इंग्लिश विषय भी शामिल था। उनके दस साल के पढ़ाने के दौर में उन्होंने अच्छे अच्छे वक्ता के भाषण सुने और बहुत सारे आध्यत्मिक गुरु से भेट भी की।

1960 में तलागाजर्दा गाव में पहली बार मोरारजी बापू ने लोगों को राम कथा सुनाई। तब बापू केवल 14 साल के थे। उसके बाद 1976 में बापू ने पहली बार परदेश में यानि नैरोबी में कथा सुनाई।

आज की तारीख में बापू ने 800 से भी ज्यादा कथा का पठन किया है। उनके सप्ताह पुरे भारत में और दुनिया के अलग अलग शहरों में हुए है जैसे की न्यूयॉर्क, लन्दन, दुबई, ब्राज़ील, तिबेट और भूटान जैसे देशो में भी उन्होंने कथा सुनाई है। नौ दिन तक चलनेवाले कथा में बापू सुबह के समय तीन घंटे तक कथा सुनाते है।

बापू सभी तरह के शांति सम्मलेन में भाग लेते है और बहुत सारे शांति सम्मलेन का आयोजन भी करते है। इस तरह से वो विविध धर्मो के संतो को एक साथ लाने का काम करते है। 2009 में बापू ने जब महुआ में विश्व धार्मिक सम्मलेन का आयोजन किया था तो उसका उद्घाटन दलाई लामा ने किया था।

2012 में वाल्मीकि रामायण पर राष्ट्रीय सम्मलेन आयोजित किया गया था। उसमे डॉ सत्यव्रता शास्त्री, डॉ राधावल्लभ त्रिपाठी, डॉ राजेंद्र नानावटी और बहुत सारे रामायण विद्वान लोग शामिल हुए थे।

Morari Bapu Biography in hindi :-

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
shares
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x