modhera sun temple history in hindi

Modhera sun temple history in hindi | मोढेरा सूर्य मंदिर

places

Modhera sun temple history in hindi language:-

modhera sun temple :- हम आपको लेकर चलते हैं मोढ़ेरा ( modhera ) के विश्व प्रसिद्ध सूर्य मंदिर, जो अहमदाबाद से तकरीबन सौ किलोमीटर की दूरी पर पुष्पावती नदी ( River ) के तट पर स्थित है। माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण सम्राट भीमदेव ( Bhim dev )सोलंकी प्रथम (ईसा पूर्व 1022-1063 में) ने करवाया था। इस आशय की पुष्टि एक शिलालेख करता है जो मंदिर के गर्भगृह की दीवार पर लगा है, जिसमें लिखा गया है- ‘विक्रम संवत 1083 अर्थात् (1025-1026 ईसा पूर्व)।’ 

यह वही समय था जब सोमनाथ ( Somanath ) और उसके आसपास के क्षेत्रों को विदेशी आक्रांता महमूद गजनी ने अपने कब्जे में कर लिया था। गजनी के आक्रमण ( Attack ) के प्रभाव के अधीन होकर सोलंकियों ने अपनी शक्ति और वैभव को गँवा दिया था। 

सोलंकी ( Solanki )साम्राज्य की राजधानी कही जाने वाली ‘अहिलवाड़ पाटण’ भी अपनी महिमा, गौरव और वैभव को गँवाती जा रही थी जिसे बहाल करने के लिए सोलंकी राज परिवार ( king Family ) और व्यापारी एकजुट हुए और उन्होंने संयुक्त रूप से भव्य मंदिरों ( Temple ) के निर्माण के लिए अपना योगदान देना शुरू किया। 

Modhera sun temple history in hindi language :-

सोलंकी ‘सूर्यवंशी’ थे, वे सूर्य को कुलदेवता के रूप में पूजते थे अत: उन्होंने अपने आद्य देवता की आराधना के लिए एक भव्य सूर्य मंदिर बनाने का निश्चय किया और इस प्रकार मोढ़ेरा के सूर्य मंदिर ने आकार लिया। भारत में तीन सूर्य मंदिर हैं जिसमें पहला उड़ीसा का कोणार्क मंदिर, दूसरा जम्मू में स्थित मार्तंड मंदिर और तीसरा गुजरात के मोढ़ेरा का सूर्य मंदिर। 

शिल्पकला का अद्मुत उदाहरण ( Example )प्रस्तुत करने वाले इस विश्व प्रसिद्ध मंदिर ( Temple ) की सबसे बड़ी खासियत यह है कि पूरे मंदिर के निर्माण में जुड़ाई के लिए कहीं भी चूने का उपयोग ( Use ) नहीं किया गया है। ईरानी शैली में निर्मित इस मंदिर को भीमदेव ने दो हिस्सों में बनवाया था। पहला हिस्सा गर्भगृह का और दूसरा सभामंडप का है। मंदिर के गर्भगृह के अंदर की लंबाई 51 फुट और 9 इंच तथा चौड़ाई 25 फुट 8 इंच है।

Read more :-

मंदिर के सभामंडप में कुल 52 स्तंभ हैं। इन स्तंभों पर बेहतरीन कारीगरी ( Works ) से विभिन्न देवी-देवताओं के चित्रों और रामायण ( Ramayan ) तथा महाभारत के प्रसंगों को उकेरा गया है। इन स्तंभों को नीचे की ओर देखने पर वह अष्टकोणाकार और ऊपर की ओर देखने पर वह गोल ( Round ) दृश्यमान होते हैं।

Modhera sun temple history in hindi :-

इस मंदिर का निर्माण कुछ इस प्रकार किया गया था कि जिसमें सूर्योदय ( Sunrise ) होने पर सूर्य की पहली किरण मंदिर के गर्भगृह को रोशन करे। सभामंडप के आगे एक विशाल कुंड स्थित है जिसे लोग सूर्यकुंड या रामकुंड के नाम से जानते हैं। 

अलाउद्दीन खिलजी ने अपने आक्रमण ( Attack ) के दौरान मंदिर को काफी नुकसान ( Damaged ) पहुँचाया और मंदिर की मूर्तियों की तोड़-फोड़ की। वर्तमान में भारतीय पुरातत्व विभाग ने इस मंदिर ( temple ) को अपने संरक्षण में ‍ले लिया है। 

पुराणों में भी मोढ़ेरा ( Modhera ) का उल्लेख: स्कंद पुराण और ब्रह्म पुराण के अनुसार प्राचीन काल में मोढ़ेरा के आसपास ( Nearby ) का पूरा क्षेत्र ‘धर्मरन्य’ के नाम से जाना जाता था। पुराणों के अनुसार भगवान श्रीराम ने रावण के संहार के बाद अपने गुरु वशिष्ट को एक ऐसा स्थान बताने के लिए कहा जहाँ पर जाकर वह अपनी आत्मा की शुद्धि और ब्रह्म हत्या के पाप से निजात पा सकें। तब गुरु वशिष्ठ ने श्रीराम को ‘धर्मरन्य’ जाने की सलाह दी थी। यही क्षेत्र आज मोढ़ेरा के नाम से जाना जाता है।  ( modhera sun temple history in hindi language
)

– : Modhera sun temple history in hindi language

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *