Love Poem in Hindi | Hindi Shayri | लव पर अच्छी कविताएँ

love poem in hindi

Sharing is caring!

Love Poems in Hindi

हे दोस्तों आज हम आपके लिए लेकर आये ही लव पर कविता जिसे आप पढ़ के आनंद ले सकते है। आप चहेतो यहाँ से कॉपी करके अपने दोस्तोंके साथ share कर सकते है। 

Love Poem – 1 “तुम्हे क्या पता”

भूलना चाहो तो भी याद हमारी आएगी
दिल की गहराई मे हमारी तस्वीर बस जाएगी
ढूढ़ने चले हो हमसे बेहतर दोस्त
तलाश हमसे शुरू होकर हम पे ही ख़त्म हो जाएगी.

 

Love Poem 2 – “जुदाई”

जो तुमसे दूर चला गया हैं, उसके लिए क्यों आँसू बहाना
जो अतीत का पन्ना हैं, उसके लिए क्यों अपना वर्तमान गवाना,
जो जब वो बेगाना हैं, उसके लिए क्यों खुद को दिन रात रुलाना,
पर अब वो किसी और के संग हैं, अब वो किसी और की दिल की उमंग हैं
तुम्हारी अच्छाई बहुत अच्छी लगती हैं,
तुम्हारी बुराई बहुत बुरी लगती हैं,
तुम्हारे सौ झूट के आगे हमें तुम्हारी एक बात सच्ची लगाती हैं.
तुम एक बार माफ़ी मांगो,
हम अपने आंसू भुला देते हैं,
दूसरी बार मांगो तो तुम्हारे संग चले आते हैं
हमारी खुद की बाते हमें गलत लगाती हैं,
तुम्हारी सौ गलत बातें भी आंखिर हमें अच्छी लगाती हैं,
तुमसे बिछड कर जीने के लिए जिंदगी कब तैयार हुई
सिर्फ़ जुदा होने के ख्याल से आँखे नाम हो जाती हैं.

Read more :- love quotas in hindi | हिंदी लव कोट्स स्टेटस 

Love Poem 3 – “तूने ही लगा दिया”

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है
दिल न चाह कर भी, खामोश रह जाता है
कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है
कोई कुछ न कहकर भी, सब बोल जाता है

quotas in hindi love gyankidhaara
love poem in hindi

Love Poem 4 – “अपना प्यार बना लो….”

मुझे अपनी जान बना लो,
अपना अहसास बना लो,
मुझे अपने अल्फाज़ बना लो,
अपने दिल की आवाज़ बना लो,
बसा लो अपनी आँखों में
मुझे अपना ख़्वाब बना लो,
मुझे छुपा लो सारी दुनिया से
अपना एक गहरा राज बना लो
आज बन जाओ मेरी मोहब्बत
और मुझे अपना प्यार बना लो….

Read more :- Shayari in Hindi ,शायरी, Shayari, इरशाद, Love

Poem on Love 5 – “दिल की चाहत”

मेरे दिल की चाहत,
कल भी तुम थे और आज भी तुम हो
मेरी ज़रूरत,
कल भी तुम थे और आज भी तुम हो
तुमने तो मुझे कबका भुला दिया
मेरी आदत,
कल भी तुम थे और आज भी तुम हो
तुमने न जाना कितना, तुमको प्यार किया
मेरी इबादत,
कल भी तुम थे और आज भी तुम हो
बेखबर बनते हो, खबर हो के भी
मेरी किस्मत,
कल भी तुम थे और आज भी तुम हो

 

Poem on Love 6 – “इंतज़ार कहते है”

इंकार को इकरार कहते हे
खामोशी को इज़हार कहते हे
क्या दस्तूर है इस दुनिया का
एक खूबसूरत सा धोखा हे
जिसे लोग ‘प्यार’ कहते हे.

-: Love Poem in Hindi

Follow on Quora :- Yash Patel

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares