bhupesh baghel biography in hindi

bhupesh baghel biography in hindi

Sharing is caring!

Bhupesh baghel biography in hindi :-

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता भूपेश भघेल ने छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। 57 वर्षीय भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ के तीसरे मुख्यमंत्री हैं। इसके साथ ही वे दुर्ग जिले से दूसरे और दुर्ग संभाग से तीसरे मुख्यमंत्री हैं। छत्तीसगढ़ की जनसंख्या में ओबीसी समुदाय की हिस्सेदारी करीब 36 फीसदी है और भूपेश बघेल प्रदेश में ओबीसी समुदाय के बड़े नेता हैं। कृषक परिवार से ताल्तुल रखने वाले बघेल का किसानों से खास लगाव है। विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान वह खेतों में काम कर रहे किसानों के बीच भी जाते थे। एक बार तो किसानों से बात करते-करते वे उनके साथ धान की मिजाई भी करने लगे थे।

भूपेश बघेल का जन्म 23 अगस्त 1961 को तत्कालीन मध्य प्रदेश राज्य के दुर्ग जिले की पाटन तहसील में हुआ था। इनके पिता का नाम नंद कुमार बघेल और माता का नाम बिंदेश्वरी देवी था। नंद कुमार किसान थे ( bhupesh baghel biography in hindi )

3 फरवरी 1982 को भूपेश बघेल ने मुक्तेश्वरी देवी विवाह किया। मुक्तेश्वरी देवी से उनको चार संतानें हुईं। जिनमें से एक बेटा और तीन बेटियां थीं। उन्होंने पूर्व कांग्रेसी नेता चंदूलाल चंद्राकर को अपना राजनीतिक गुरु बनाया और उनके बताए रास्ते पर चलने लगे।

साल 1985 में भूपेश भारतीय युवा कांग्रेस (आईवाईसी) से जुड़ गए थे। साल 1990 में उन्हें पहला राजनीतिक पद मिला। वे दुर्ग जिला (ग्रामीण) से युवा कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बनाए गए। इसी बीच साल 1993 में हुए मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने उन पर भरोसा जताया और पाटन से टिकट दिया। भूपेश इस चुनाव में विजयी रहे। इसके बाद साल 1994 में भूपेश ने दुर्ग जिले की युवा कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया।( bhupesh baghel biography in hindi )

विधान सभा चुनाव जीतने के बाद जब मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी तो 1993 उन्हें मध्य प्रदेश हाउसिंग बोर्ड का निदेशक बना दिया गया। भूपेश ने 2001 तक इस पद पर काम किया। साल 1994 में उन्हें मध्यप्रदेश कांग्रेस की युवा इकाई के उपाध्यक्ष बना दिया गया। इस पद पर वे 1995 में तक रहे। 1998 में हुए मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान एक बार भूपेश फिर पाटन से विजयी रहे।

1998 में जब दिग्विजय सिंह के नेतृत्व में दोबारा सरकार का गठन हुआ तो उन्हें जनशिकायत निवारण मंत्री (स्वतंत्र प्रभार ) बनाया गया। अगले ही साल मध्य प्रदेश का परिवहन मंत्रालय उनके हाथ में आ गया।

साल 2000 में छत्तीसगढ़ के मध्य प्रदेश से अलग होने के बाद प्रदेश में बनी अजीत जोगी सरकार में भूपेश को राजस्व, पुनर्वास, राहत कार्य और लोक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग मंत्रालय दिया गया। वे 2003 तक इन मंत्रालयों का कार्यभार संभालते रहे। 2003 में हुए छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में उन्हें फिर से विधायक चुना गया हालांकि, प्रदेश में कांग्रेस सत्ता में नहीं आ सकी। ( bhupesh baghel biography in hindi )

इस दौरान वह छत्तीसगढ़ विधानसभा में विपक्ष के उप नेता नियुक्त किए गए। साल 2004 के आम चुनावों में कांग्रेस ने बघेल को दुर्ग लोकसभा सीट से प्रत्याशी बनायालेकिन इस चुनाव में बघेल हार गए। इसके बाद 2008 में राज्य विधानसभा चुनाव और 2009 में हुए लोकसभा चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

इसके बाद 2013 में हुए राज्य विधानसभा चुनाव में बघेल ने पाटन से बड़ी जीत दर्ज की थी। साल 2014 में उन्हें प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष नियुक्त कर दिया गया। इस पद पर वे 2018 राज्य विधानसभा तक रहे। साल 2017 में हुए सेक्स सीडी कांड में भी बघेल का नाम आया था। उन पर सेक्स सीडी बांटने का आरोप लगा था। इस आरोप के चलते बघेल को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भी रहना पड़ा था।

Bhupesh baghel biography in hindi :-

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
shares